कॉमिक्स समीक्षा: यज्ञा 3 – मौत का सौदागर (बुल्सआई प्रेस) – (Comics Review – Yagyaa 3 – The Reaper Of Souls – Bullseye Press)

अनादि अभिलाष

अनादि अभिलाष (Anadi Abhilash) जी का ताल्लुक ‘कोयला नगरी’ धनबाद, झारखंड के एक मध्यमवर्गीय परिवार से हैं । हालांकि इनकी प्रारंभिक शिक्षा, हाई स्कूल और +2 की शिक्षा झारखंड के ही सिमडेगा, जमशेदपुर और रांची से हुई । राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दुर्गापुर से बी.टेक की डिग्री प्राप्त की और मुंबई में कार्यरत हैं । काॅलेज के दिनों से ही राष्ट्रीय स्तर पर नाटक, नुक्कड़ करते आए हैं और मुंबई में विहंगम थियेटर ग्रुप से जुड़े हुए हैं ‌। स्वरदीपिका नाम से इनकी एक प्राॅडक्शन वेंचर भी कार्यशील है । बचपन के दिनों से ही काॅमिक्स में विशेष रूचि है और भारतीय काॅमिक्स इंड्रस्टी के उत्थान के लिए कुछ कर गुजरना चाहते हैं और प्रयासरत भी हैं । इनका मानना है कि अगर आप और हम मिलकर संकल्प लें तो भारतीय काॅमिक्स इंड्रस्टी बुलंदियों को छू सकती है ।

Space
कॉमिक्स समीक्षा: यज्ञा 3 – मौत का सौदागर (बुल्सआई प्रेस) – (Comics Review – Yagyaa 3 – The Reaper Of Souls – Bullseye Press)

नमस्कार दोस्तों, आखिरकार बुल्स‌आई प्रेस के चर्चित किरदार यज्ञा की तीसरी काॅमिक्स लंबे इंतजार के बाद प्रकाशित की जा चुकी है । यज्ञा हिंदी पाठकों के बीच काफी लोकप्रिय भी है , तो आईए चर्चा करते यज्ञा की नई कहानी “मौत का सौदागर” की ।

Yagyaa - The Reaper Of Souls - Bullseye Press
Yagyaa – The Reaper Of Souls – Bullseye Press – English
कहानी (Story)

प्रज्ञा पराशर काॅमिकोन इवेंट के लिए मुंबई आती है और इसी बीच शहर में हत्याओं का रहस्यमयी सिलसिला जारी रहता है । यज्ञा का मुकाबला एक प्राचीन असुर जाति से होता है और प्रशासन यज्ञा की मौजूदगी की वजह से उसे ही शक की नज़रों से देखने लगता है । फिर क्या हुआ इसका नतीजा , ये तो आप काॅमिक्स पढ़कर खुद ही जान लें ।

प्री-आर्डर की जानकारी लें – यज्ञा और मौत का सौदागर

Yagyaa - The Reaper Of Souls - Bullseye Press
Yagyaa – The Reaper Of Souls – Bullseye Press
टीम (Team)

यज्ञा के पिछले दो भागों में श्री नितिन मिश्रा जी ने कहानी लिखी थी और इस बार कहानी श्री सुदीप मेनन जी ने लिखी है । इटली की उभरती चित्रकार सुश्री गिएडा बेलवीसो ने चित्रांकन और रंग सज्जा में कोई कसर नहीं छोड़ी है । हिंदी रूपांतरण, शब्दांकन श्री मंदार गंगेले जी की है और ग्राफिक डिजाइनिंग श्री गौरव गंगेले जी ने की है । अंग्रेजी संस्करण में आवरण चित्र सुश्री गिएडा और मोरिशियो ने की है । हिंदी संस्करण में आवरण चित्र श्री दिलदीप सिंह , स्याही श्री जगदीश कुमार और आवरण रंगसज्जा श्री संतोष पिल्लेवार की है । संपादक व प्रकाशक श्री रविराज आहूजा हैं, अतिथि संपादक सुश्री नताशा सरकार हैं, साथ ही सुश्री लाॅरा को विशेष धन्यवाद व्यक्त किया गया है । काॅमिक्स के साथ श्री लक्ष्मण सिमरे द्वारा बनाया गया दो पेजों का कार्टून स्ट्रीप मुफ्त दिया जा रहा जो बुल्सआई युनिवर्स पर आधारित है ।

Yagyaa - Maut Ka Saudagar - Blank Cover - Shakti and Yagyaa
Cover Art – Deepjoy Subba
Yagyaa – Maut Ka Saudagar – Blank Cover – Shakti and Yagyaa
संक्षिप्त विवरण (Details)

प्रकाशक : बुल्सआई प्रेस
पेज : 36
पेपर : ग्लॉसी
मूल्य : 199/- (हिंदी, अंग्रेजी) – वर्जिन कवर 299/-
कहां से खरीदें : Bullseye Press & (Comics Adda स्पेशल वैरिएंट)

काॅमिक्स के कुछ वैरिएंट एडिशन भी सीमित मात्रा में छापे गए हैं । वर्जिन कवर वैरिएंट में आवरण चित्र व रंगसज्जा श्री आदित्य दामले जी की है । साथ ही ब्लैंक कवर एडिशन में आप अपने पसंदीदा चित्रकार से चित्र बनवा सकते हैं । ये दोनों बुल्सआई के साईट पर ही उपलब्ध है । इसके अलावा आप काॅमिक्स अड्डा के साईट से काॅमिक्स अड्डा वेरियंट ऑर्डर कर सकते हैं, जिसमें आवरण चित्र व रंगसज्जा सुश्री माॅरिशियो की है । आप इस वेरिंयट में विशेष अनुरोध पर श्री निलेश मकवाने जी के हस्ताक्षर भी ले सकते हैं ।

Yagyaa - The Reaper Of Souls
Yagyaa – The Reaper Of Souls
निष्कर्ष (Conclusion)

हालांकि कहानी में खास नयापन नहीं है लेकिन लेखन बेहतरीन है । इस बात को लेकर थोड़ी निराशा होती है कि दूसरे भाग में कहानी जहां खत्म हुई, कहानी वहां से आगे न बढ़ाकर अलग ही कहानी लिखी गई है । काॅमिक्स के उपसंहार में एक ऐसा सरप्राइज है जो अगले भाग के इंतजार के लिए विवश कर देती है । हर बार की तरह काॅमिक्स में कहानी पूरी की गई है ।

पढ़ें – कॉमिक्स समीक्षा: यज्ञा – असुर देवी / कॉमिक्स समीक्षा: यज्ञा – ब्लड बाथ

Set of 10 Marvel Comics (Spiderman, Xmen, Avengers etc) Assorted Collection

Set of 10 Marvel Comics (Spiderman, Xmen, Avengers etc) Assorted Collection

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

error: Content is protected !!