नब्बें का दशक और कार्टून: भाग 1

नब्बे का दशक कुछ अलग ही था ज्यादा संसाधन नहीं थे लेकिन जो भी था बहोत मजेदार था. आज महसूस होता है की अगर आपकी जड़े मजबूत हो तो बड़े से बड़े तूफ़ान भी आपका बाल भी बांका नहीं कर सकते और आप सभी मुश्किलों में भी डटे रहते है ऐसा ही कुछ है भारत के पहले टीवी चैनल दूरदर्शन और डीडी मेट्रो के साथ, लॉकडाउन में सारे पुराने कार्यक्रम दिखा कर दूरदर्शन ने बाज़ी मार ली और टीआरपी के खेल में भी नए कीर्तिमान बना डाले. 2 करोड़ से उपर लोग इन्हें रोजाना देख रहे है जबकि अन्य ऑनलाइन और केबल के चैनल्स पर बहोत सा कंटेंट है, बात है!

अब जब कार्टून लिखा है तो समझ जाइये इसे एक पोस्ट में समेटना बहोत मुश्किल होगा, लेकिन कोशिश रहेगी की आप लोगों से ज्यदा जानकारी साझा कर सकूँ. इनका ताल्लुक कॉमिक्स से भी है जो तब हमारे टाउन में ज्यदा तो मिलती नहीं थी बस राज कॉमिक्स, डायमंड कॉमिक्स या तुलसी कॉमिक्स मिल जाया करती थी वो भी मात्र कुछ स्थापित दुकानों में, ऐसे में दूरदर्शन ने हम बच्चों का बहोत मनोरंजन किया. खेल कूद कर, स्कूल जाकर, कॉमिक्स पढ़ कर और कार्टून देखकर समय व्यतीत करना तब के बच्चों का शगल था, क्योंकि काफी सालों तक केबल नही आया था तो जो दूरदर्शन (डीडी मेट्रो भी बाद में आया) में आता वही देखते और इसी कड़ी में हम आज बात करेंगे इन चैनल्स पर आने वाले सदाबहार कार्टून्स की (“सदबहार” क्योंकि आज भी बैठ कर देखा जा सकता है एकटक). नब्बे के हिसाब से एनीमेशन काफी बेहतर था, हिंदी में डब करके इन्हें प्रसारित किया जाता था और कुछ मूल भाषा यानि अंग्रेजी में भी आते थे. ये लिस्ट काफी बड़ी है तो आइये शुरुवात करते है!

ही-मैन एंड द मास्टर्स ऑफ़ थे यूनिवर्स
क्रेडिट्स: यू ट्यूब

ही-मैन एंड द मास्टर्स ऑफ़ थे यूनिवर्स (दूरदर्शन): “ही-मैन” एनिमेटेड टेलीविजन श्रृंखला, कॉमिक बुक्स, खिलौने और एक फीचर फिल्म सहित तलवार और टोना-टोटके जादू से भरे “मास्टर्स ऑफ द यूनिवर्स” फ्रैंचाइज़ के प्रमुख सुपरहीरो हैं. 1980 के दशक के सबसे लोकप्रिय कार्टून शो में से एक, इसका टेलीविज़न डेब्यू सितंबर 1983 में हुआ जो की 1985 तक चला (भारत से बाहर – संदर्भ विकिपीडिया), जिसमें दो सीज़न प्रसारित हुए और इनमे हर सीज़न में 65 एपिसोड शामिल थे।

ही-मैन एंड द मास्टर्स ऑफ़ थे यूनिवर्स
—————————————————-

ही-मैन ब्रह्मांड का सबसे ताकतवर सुपर हीरो भी है और उसके साथ में है बैटल कैट जो उसका पूरा साथ निभाता है. समय था रविवार सुबह 8 बजे.

बैटमैन (डीडी मेट्रो): डीसी कॉमिक्स का सबसे चर्चित और विवादास्पद किरदार क्योंकि बैटमैन किसी भी सुपर हीरो को हरा सकता है, वो खूंखार है, बदनाम है, डरावना है, कई लोग तो उसे मैनबैट भी कहते है! एनिमेटेड सीरीज के पीछे ब्रूस टिम, पॉल दीनी और मिच ब्रायन का योगदान था एवं वार्नर ब्रदर्स एनिमेशन द्वारा निर्मित यह मूल रूप से फॉक्स किड्स पर 5 सितंबर 1992 से 15 सितंबर 1995 तक, कुल 85 एपिसोड के साथ प्रसारित हुआ(भारत से बाहर – संदर्भ विकिपीडिया).

बैटमैन
क्रेडिट्स: यू ट्यूब

इस सीरीज को बैटमैन की अभी तक की बेस्ट एनिमेटेड सीरीज भी कहा जाता है. समय था शनिवार एवं रविवार शाम 5 बजे.

बैटमैन
——————-

द जंगल बुक (दूरदर्शन): सूरज को दिया दिखाने की जरुरत नहीं, अब “चड्डी पहन के फूल खिला है” को किसी परिचय की जरुरत है भला, मोगली के नाम से चर्चित शायद ये 90 के दशक का सबसे ज्यादा याद किये जाने वाला कार्टून्स में से एक है द जंगल बुक. नाना पाटेकर को शेर खान की आवाज़ में कोई नहीं भूल सकता, संगीत था विशाल भारद्वाज जी का, ये रूडयार्ड किपलिंग की कहानियों के मूल संग्रह “द जंगल बुक” का एक जापानी एनीमे रूपांतरण है, यह 1989 में प्रसारित हुआ (भारत से बाहर – संदर्भ विकिपीडिया) और इसमें कुल 52 एपिसोड शामिल थे.

द जंगल बुक
क्रेडिट्स: यू ट्यूब

जंगलो से मेरा और हमउम्र बच्चों का पहला परिचय, रविवार सुबह 10 बजे, वाह क्या दिन थे!

द जंगल बुक
————————-

अलादीन (दूरदर्शन): वाल्ट डिज्नी द्वरा कृत अलादीन अरब के एक गरीब लड़के की कहानी है जिसे वहां राजकुमारी जैसमीन से प्यार है, उसका साथ देता उसका साथी बंदर “अबू” और फिर उसे एक गुफा में प्राप्त होता है जादुई कालीन और एक चिराग जिसमे से निकलता है एक नीला जिन्न. यहाँ पर मै बात करूँगा उसके बातूनी तोते “यागो” की भी, यकीं जानिए बहोत कॉमेडी करता था भाई. एक नंबर का शैतान, हमेशा अलादीन को कही न कहीं फंसा देता था, हा हा हा.

अलादीन
क्रेडिट्स: यू ट्यूब

अलादीन जो की 6 फरवरी 1994 से 25 नवंबर 1995 तक प्रसारित हुआ (भारत से बाहर – संदर्भ विकिपीडिया), उसी नाम की मूल 1992 की डिज्नी फिल्म पर आधारित था. समय था रविवार दोपहर 4 बजे.

अलादीन
——————-

आगे की रोचक जानकारी के लिए बने रहिये कॉमिक्स बाइट के साथ और एक बार फिर चलेंगे लौट कर नब्बे के बेहतरीन दौर पे, और हाँ सभी कार्टून्स पर कॉमिक्स उपलब्ध है बाज़ार में. तो दोस्तों पोस्ट अगर पसंद आई तो क्या करेंगे? पता है ना? शेयर करेंगे, शेयर करेंगे! कहाँ? जी बिलकुल सोशल मिडिया प्लेटफॉर्म्स पर और जहाँ भी आपकी मर्ज़ी हो. जय हिन्द – कॉमिक्स बाइट!

Arabian Nights: Treasury of Arabian Nights

Arabian Nights: Treasury of Arabian Nights

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

One thought on “नब्बें का दशक और कार्टून: भाग 1

Leave a Reply

error: Content is protected !!