मैं हूँ डोगा !!

डोगा के प्रारंभिक कॉमिक्सों पर बेस्ड एक आर्टिकल. (इमेज क्रेडिट्स: राज कॉमिक्स)

काैन है बेहतर…सूरज या डाेगा?
क्या आप इन्हें जानते है?

संजय गुप्ता सर और तरुण कुमार वाही सर द्वारा बनाया गया एक ऐसा किरदार जाे समस्याओं काे हल नहीं करता बल्कि जड़ से उखाड़ फेंकता है, एक आम सुपर हीरो, मुंबई का रखवाला, कुत्तों का मित्र एवं अपराधियों का काल: डाेगा! या उसका आल्टर ईगो – जिम में पसीने बहाने वाला वाला, अपने चार चाचाओं का भक्त, हष्ट पुष्ट मासंल देह का सरताज, मोनिका का प्यार सूरज!

ओरिजनल आर्ट बाय #मनु_सर, राज कॉमिक्स(गैंडा)
डिजिटल एडिटस् बाय मैडक्लीक्स।

राज कॉमिक्स में एक ऐसे किरदार की सख्त जरुरत थी जिसकी इमेज एंग्री यंग मैन वाली हो जैसे अमित जी (अमिताभ बच्चन) की दीवार या जंजीर फिल्म में थी, हरा-मानव यानि की स्नेक मैन अका नागराज बच्चों का खास था और उसका काम था विश्व में फैले आतंकवाद को समाप्त करना पर उसकी शक्तियाँ नागों से मेल खाती थी जो आश्चर्यजनक थी, दूसरी ओर था सुपर कमांडो ध्रुव जिसने प्रतिशोध के ज्वाला में जल के अपराधियों को नेस्तोनाबूत करने की कसम खायी थी, एक आदर्श चरित्र, परिवार का लाडला, जिसका दिमाग बेहद तीक्ष्ण और तीव्र गणनाये करने में सक्षम है लेकिन इन दोनों के अलावा भी बहोत सारे सुपर हीरो एक्टिव थे राज कॉमिक्स में जैसे अश्वराज, गगन, बांकेलाल, परमाणु, शुक्राल, भोकाल, योद्धा, भेड़िया पर पाठकों से उनका कनेक्शन नागराज या ध्रुव जैसा न था, अब राज कॉमिक्स को ऐसे सुपर हीरो की जरुरत महसूस हुई जो किसी रूल को फॉलो ना करता हो, जो बेदर्द हो, खूंखार हो, जो अपराधिओं के दिलों में डर का माहौल पैदा कर दें, जिसके नाम से माफिया गिरोह में हडकंप मच जाये और डाकू टर्न्ड पॉलिटिशियन “हलकान सिंह” जैसों बड़े माफिया सरगना को को भी इसका नाम पता न था और चीखते तड़पते पीटे हुए उसके गैंग मेम्बेर्स ने उस काली सी परछाई से पूछा एक ही सवाल कौन है तू? क्या नाम है तेरा? तब बारूद के धामके से हुआ उसका आगाज और सामने नज़र आया रूद्र महाकाल का वह अवतार जिसने गर्जन करते हुए कहा – “मैं हूँ डोगा”.

सूरज की जिंदगी भी बड़ी उलझी हुई है, वह सुबह जिम करता है, जिम के स्टूडेंट्स को शरीर सौष्ठव की बारीकियां सिखाता है, मोनिका एवम् अपने चाचाओं के साथ समय व्यतीत करता है और चीता की चालबाज़ियों से खुद का बचा के भी रखता है, फिर हर रात शुरू होता है उसका अपराध उन्मूलन का कार्यक्रम जिसमे उसका साथ देते है उसकी कुत्ता फौज. वैसे तो कॉमिक्स में डोगा ज्यदा दिखाई देता है पर सूरज का किरदार भी उतना ही महत्वपूर्ण है, यहाँ तक की चीता की चालों में फंसकर एक बार सूरज को भी डोगा से रिंग में “मुकाबला” (कॉमिक्स – डोगा सीरीज) करना पढ़ गया था, जानने के जरुर पढ़े की क्यों?

इमेज क्रेडिट्स: राज कॉमिक्स

डोगा के आर्टवर्क को चार चाँद लगाया एडिसन जोर्ज यानि के हम सबके चहेते मनु जी ने, परमाणु के कॉमिक्स के भी चित्रकार वही थे फिर डीगवाल जी ने उससे आगे कैरी किया, मनु जी ने डोगा पर अपना कार्य जारी रखा, कवर्स पे पहले भारतीय कलाजगत के पितामह श्री प्रताप मुल्लिक जी का काम था जिसे बाद में धीरज वर्मा सर के कवर्स से बदला गया, जब आउट ऑफ़ स्टाक होने के इन्हें दोबारा प्रिंट किया गया. डोगा ने आते ही कॉमिक्स बाज़ार में तबाही मचा दी, ये इतनी तेज़ी से बढ़ा और चंद अंकों के प्रकाशित होने के बाद ही इसने पूरे भारत में धूम मचा दी. पाठकों ने उसकी मार्मिक कहानी को हांथो हाँथ लिया और भारत को मिला उसका पहला एंग्री यंग मैन सुपर हीरो जो मुसीबतों को बस हल नहीं करता बल्कि जड़ से उखाड़ फेंकता है.

बाद के सालों में डोगा ने हमे कई बेहतरीन कहानियाँ दी, जिसका पूरा श्रेय माननीय संजय गुप्ता सर और तरुण कुमार वाही सर को जाता है, डोगा की कॉमिक्स श्रृंखला में कई ऐसी सीरीज है जिनकी चर्चा हम आगे भी करेंगे, फिलहाल जब शहरों में कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन है या धारा 144 लगी है, तो आज के जनरेशन को यह थोडा अजीब लग सकता है, लेकिन इसे क्या कहते है ये तो हम बच्चों को राज कॉमिक्स ने बचपन में ही बता दिया था क्योंकि तब लगा था डोगा का – “कर्फ्यू”.

कहने लिखने को बहोत कुछ है पर उनकी चर्चा फिर किसी दिन, अब विदा मित्रों, अपना ध्यान रखिए, घरों से बाहर न निकले जब तक अति आवश्यक कार्य ना हो, खुद को साफ़ सुथरा रखें और आस पास सफाई रखें, कोविड 19 नामक वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में फैला हुआ है, आप घर में खुद को सेल्फ क्वारंटाइन कर के कुछ दिन इसके मार से बच सकते है और अपने घर परिवार को भी इससे दूर रख सकते है. डोगा का एक अन्य कॉमिक्स का रिव्यु भी आप हमारे ब्लॉग पे पढ़ सकते है जिसका नाम है 8 घंटे, और अगर पोस्ट आपको पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों, ग्रुप्स, फेसबुक और अन्य सोशल टच पॉइंट्स पर ज्यदा से ज्यदा शेयर करे, हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे और कोई अन्य जानकारी आपके पास हो तो हमे कमेंट सेक्शन में मेंशन करिये, आभार – कॉमिक्स बाइट!

#राज_कामिक्स
#डाेगा

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

One thought on “मैं हूँ डोगा !!

Leave a Reply

error: Content is protected !!