कलेक्टर स्टार्टर पैक : बनाएं दुर्लभ कॉमिक्स व किताबों का संग्रह बिना किडनी बेचे

एमआरपी बुक शॉप द्वारा प्रायोजित पोस्ट

आज २३ तारीख वर्ल्ड बुक डे है तो चलिए आपको हम रूबरू करते हैं किताबों कि दुनिया के एक अनूठे पहलू से और वो है किताबों का संग्रह. कोरोना वायरस कोविड-19 के कारण दुनिया भर में लॉकडाउन है और किताबों कि खरीद-फरोख्त फ़िलहाल बंद हो चुकी है . पर इसी दौर में हार्डकॉपी में अपनी पसंदीदा किताबें अपने पास होने कि अहमियत भी सबने महसूस की है, खासकर सबके मन में अच्छी व मनोरंजक किताबें खरीद कर भविष्य के लिए संजो रखने का विचार तो आया ही होगा. कुछ ने तो भविष्य में किताबें संग्रह करने कि सोची होगी कि एक छोटा सा संग्रह कर लिया जायेगा, खासकर अपने बच्चों के लिए क्यूंकि अचानक से घर पर बंद बच्चों के लिए किताबों से बढ़िया भला क्या होगा और बच्चों के लिए मनोरंजन का तो बहुत ही अच्छा और ज्ञानवर्धक जरिया है – “कॉमिक्स एवं स्टोरीबुक”. क्यूंकि किताबें तो मित्र होती हैं जिनका हाथ पकड़ आप दूसरी ही दुनिया में खो जाते हैं और वे यदि कॉमिक्स हों तो सोने पे सुहागा, तो हम आपको आज बताएँगे कि आप कौन सी किताबें संग्रह कर सकते हैं जो कि ज्ञानवर्धक भी होंगी और अनमोल भी ‘यानि कि एक पंथ दो काज’.

क्या कहा ? आप रेयर कॉमिक्स कलेक्ट करते हैं ? फ़िक्र न कीजिये,  हम आज जिन किताबों कि बात करेंगे वो रेयर भी हैं एवं जिसमें कॉमिक्स और साथ में कुछ अनूठी किताबें भी होंगी. हमें ये भी पता है कि ऐसी किताबे या कॉमिक्सों का बाजार में रेयर वैल्यू उनके एमआरपी से भी बहुत ज्यादा लिया जाता है और बहुत सी रेयर कॉमिक्स प्राप्त करना अपने आप में एक दूभर कार्य है, इसमें बहुत समय भी लगता है, पर घबराने कि जरुरत नहीं है आपको ये सब करने के लिए किडनी नहीं बेचनी पड़ेगी, हम आपको बताएँगे कि कैसे आप अपने संग्रह कि शुरुआत अनमोल कॉमिक्स और किताबों से शुरू कर सकते हैं वह भी उनकी “एम आर पी” कीमतों पर!. जी हाँ, ये आम पाठक भी पढने के लिए खरीद सकते हैं और कलेक्शन करने वाले भी, तो बेफिक्र होकर पढ़िए कि आप कैसे रातों- रात एक सौ से ज्यादा अनमोल पुस्तक व कॉमिक्सों के संग्रहकर्ता यानि कलेक्टर बन सकते हैं.

नोट : पढने के बाद तुरंत निर्णय लेकर आर्डर कीजियेगा क्यूंकि ऐसी चीजे जल्दी सोल्ड आउट यानि आउट ऑफ़ स्टॉक हो जाती हैं. और फिर बाद में बाजार में इन्हें उचित दामों पर खरीदना असंभव कार्य हो जाता है वो कहावत है न “अब पछताए क्या होत , जब चिड़िया चुग गई कॉमिक्स”.

कलेक्टर स्टार्टर पैक 1

1. अन्ना साहब करवे कॉमिक्स :  यह कॉमिक्स 1983 में प्रकाशित हुई व इसका मूल्य उस समय 4.50 rs था. भाई अगर 80 के दशक के हिसाब से देखें तो इतने में 10 kg आटा आ सकता था. खैर भारत में प्रकाशित यह कॉमिक्स उस समय भी यकीनन महँगी थी और अब के समय में इसकी रेयर वैल्यू 800 से 1000 रुपये के बीच है जिसे संग्रहकर्ता कुछ समय पहले तक खरीद रहे थे. यह कॉमिक्स है समाज सुधारक अन्ना साहब करवे पर है जिसके चित्रकार प्रशांत सेन हैं और लेखक इंदु हैं। यह कॉमिक्स बहुत रेयर है व बहुत से अच्छे- अच्छे कलेक्टर्स के कलेक्शन में यह कुछ समय पहले तक नहीं थी कारण की इसका मिलना बड़ा मुश्क्विल था। यह कॉमिक्स एक भारतीय ऐतिहासिक व्यक्तित्व के बारे में चित्रकथा द्वारा जानकारी देती है कि किस प्रकार जीवन के अंत तक वे स्त्रियों के उत्थान के लिए समाज सुधारक कार्य करते रहे. इसकी खासियत है कि यह कॉमिक्स फर्स्ट इशू है जो इसे अति संग्रहनीय बना देता है. अब भी यह कॉमिक्स कुछ संग्रहकर्ताओं के पास ही देखने को मिलती है जिसमें से बहुत से संग्रहकर्ताओं ने उसी जगह से ली है जिसका कि पता हम आपको आज बताएँगे. यह अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है.

2. घोस्ट्स ऑफ इंडिया अंक 1 ए3 साइज़: यह कॉमिक्स 2018 में “कॉमिक्स थ्योरी” प्रकाशन द्वारा प्रकाशित हुई. यह ब्लैक एंड वाइट हॉरर कॉमिक्स एन्थोलोजी है, प्रकाशन के बाद कई मायनों में यह रेयर कॉमिक्स बन गई है। इसका रेगुलर साइज आसानी से उपलब्ध है, पर इसका ए3 साइज वाला कलेक्टर्स एडिशन अच्छे- अच्छे कलेक्टर्स के पास नहीं जिसका कारण है इसकी कम जानकारी व उपलब्धता। यह अपने में यूनिक collectible कलेक्टीबल कॉमिक्स हैं क्योंकि यह भारत की सबसे बड़े ‘साइज’ की प्रकाशित कॉमिक्स है और सबसे बड़ी खासियत ये कि इसके अंतिम पेज पर आर्टिस्ट के हाथों से बना एक ओरिजिनल पेंसिल या इंक किया आर्टवर्क दिया जाता है जो इसे अन्य किसी दूसरी कॉपी से एकदम अलग कॉपी बना देता है, यानि कि एक संग्रहनीय कॉमिक्स. 600 रुपये मूल्य वाला यह कलेक्टर्स एडिशन आपको कहां और कैसे मिलेगा ये हम आपको बताएंगे पढ़ते रहिये। यह अंग्रेजी और हिंदी सम्मिलित भाषा में उपलब्ध है.

3. टार्जन कॉमिक्स: मराठी भाषा कि यह कॉमिक्स भले ही हिंदी या इंग्लिश के पाठकों को रुचिकर न लगे पर संग्रहकर्ताओं के लिए एक नायाब कॉमिक्स है, क्यूंकि यह टार्ज़न कॉमिक्स यूरोपियन टार्ज़न कि लाइसेंस लेकर प्रकाशित कॉमिक्स नहीं बल्कि विशुद्ध भारतीय कॉमिक्स है, जिसके चित्रकार भी भारतीय हैं जो कि भारतीय कॉमिक्स के इतिहास और टार्ज़न कॉमिक्स के इतिहास में एकदम अलग बात बन जाती है. और यह कॉमिक्स अब तक दुर्लभ थी परन्तु जल्द ही आप इसे अपने संग्रह में शामिल कर सकेंगे.

4. The 99 : पिछले दशक में मिडिल ईस्ट कि तस्कील कॉमिक्स से प्रकाशित यह कॉमिक्स इस्लाम में अल्लाह के 99 गुणों से प्रभावित सुपर हीरो वाली कॉमिक्स है. इस कॉमिक्स ने मिडिल ईस्ट में तलहका मचा दिया और अमेरिकन व यूरोपियन कॉमिक्स कि दुनिया में हलचल मचा दी और खूब प्रसिद्द हुई. साथ ही यह मिडिल ईस्ट में काफी विवादित भी हुई व इसके रचनाकार पर कई फतवे भी जारी हुए. इस कॉमिक्स को भारत व साउथ एशिया में भारतीय प्रकाशक चंदामामा प्रकाशन ने लाइसेंस लेकर प्रकाशित किया था . 2013 में चंदामामा के आखिरी प्रकाशन के बाद और चंदामामा प्रकाशान के अंत के बाद इस भारतीय एडिशन की प्रतियां मिलना तब से दुर्लभ रहा है. 30 रुपये कि एम् आर पी वाली इस कॉमिक्स कि rare वैल्यू 100 रूपये से लेकर 300 रुपये तक है. इसकी 3 इशू चंदामामा ने प्रकाशित किये थे. जिसमें से 3 इशू आप पा भी सकते हैं. यह अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है.

5. रात में चमकने वाली मार्वल कॉमिक्स Daredevil : जी हाँ रात में प्रकाशमान हो जाने वाली रेडियम से युक्त कवर वाली कॉमिक्स 1993 में प्रकाशित एक शानदार संग्रहनीय मार्वल कॉमिक्स है “डेयर डेविल –  फॉल फ्रॉम ग्रेस” . कहानी में एक विलेन है जिसकी उपस्थिति को अंधा नायक डेयर डेविल अपने राडार सेंस से आभास नहीं पा सकता यानि कि कवर कि जादुई इफ़ेक्ट सीधा कहानी से जुडती है. यह खूबियाँ व इसका दुर्लभ होना इसे संग्रहनीय बना देता है क्यूंकि रात में चमकने वाली कॉमिक्स का संग्रह में होना अपने में ही एक मजेदार अनुभव है. इसकी प्रतियाँ 100 डॉलर से ऊपर बिकते देखी गई हैं. यह अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है. 

6. राइ/ब्लडशॉट ट्रेड पेपर बेक /टीबीपी एडिशन : अभी हाल ही में इस वर्ष मार्च में वेलीयंट कॉमिक्स कि ब्लडशॉट मूवी भी आई थी. इसके नायक कि ओरिजिन स्टोरी यानि कि इशू #0 को आप इस टीबीपी में पा सकते हैं जो कि 90 के दशक में प्रकाशित हुई थी व अब इसका इशू #0 तो बाजार में 80 से लेकर 150 डॉलर तक सामान्य रूप में बेचा जा रहा है. पर मजे कि बात है कि यह इशू इस टीबीपी में भी प्रकाशित किया गया था और यह संग्रहनीय इसलिए भी है कि इसके अन्दर कुछ परिवर्तन किये गए थे यानि कि इस तरह यह अपने में संग्रहनीय हो जाता है. यह टीबीपी बहुत दुर्लभ है पर आप इसे प्राप्त कर सकते हैं. यह अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है.

7. बैटमैन और सुपरमैन कलेक्टर्स एडिशन: गौथम द्वारा प्रकाशित यह कॉमिक्स हार्डकवर व स्पेशल कलेक्टर एडिशन है. इसकी खास बात है कि बैटमैन कि “वॉर आन क्राइम”  और सुपरमैन कि “पीस आन अर्थ” ये दो अलग- अलग कॉमिक्स पहली बार एक कलेक्टर एडिशन में भारत में गोथम ने निकाला और वह भी सिर्फ 2000 कॉपी ही. यानि पूरे विश्व में सिर्फ 2000 कॉपी. यह बहुत ही दुर्लभ कॉमिक्स है भारत में इसका मिलना ही दुर्लभ है. सबसे बड़ी बात इसके चित्रकार हैं अलेक्स रोस्स जिनकी चित्रकारी ने इसमें प्राण फूंक दिए हैं. इसकी सबसे खतरनाक बात है कि इस पर कोई मूल्य नहीं दिया गया और गोथम प्रकाशन अब बंद हो चुकी है. सिर्फ सुपरमैन के पेपरबैक एडिशन की रेयर वैल्यू 20000 रुपये तक आंकी गई है, फिर तो यह ‘टू इन वन’ हार्डकवर एडिशन है. पर चिंता मत कीजिये आपको यह उचित दामों में मिलने वाला है. पर कुछ प्रतियों में से आपको ये मिल जाये तो आपकी किस्मत. यह अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है.

8. सैडलबेक क्लासिक 45 कॉमिक्स का सेट: जी हाँ पूरे 45 कॉमिक्स का सेट. ये संग्रहनीय कॉमिक्स हैं क्यूंकि ये वे कॉमिक्स हैं जो कि 1941 में प्रकाशित होना शुरू हुई और 1970 तक प्रकाशित हुईं. बाद में इनके लाइसेंस लेकर मार्वल कॉमिक्स जैसे बहुत से पब्लिशर्स ने इसे प्रकाशित किया. पुराने प्रिंट्स तो बहुत ही दुर्लभ हैं, आपको दुनिया भर के प्रसिद्द साहित्य पर बने हुए ये कॉमिक्स उन साहित्य से अवगत कराएँगे, बड़ों और बच्चों के लिए एक बहुत ही उम्दा कॉमिक्सों का संग्रह है जिससे न सिर्फ मनोरंजन होगा बल्कि उन विश्व प्रसिद्द साहित्यों को चित्रकथा के रूप में आप पढ़ भी पाएंगे. 64 पेज के इन कॉमिक्सों के प्रत्येक विदेशी एडिशन का एमआरपी करीब 10 डॉलर है, पर प्रत्येक भारतीय एडिशन ग्राफ़िक नावेल का मूल्य 95 रुपये. बाजार में इसके दुर्लभ होने के कारण rare वैल्यू इसकी दुगनी से चौगुनी तक कीमत ली जाती देखी गई है. पर कभी भी यह एक साथ उपलब्ध नहीं हुई. परन्तु आप इसे एकसाथ खरीद सकते हैं. कैसे ? बस यह लेख पढ़ते जाइये. यह अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध हैं.

9. रामायण और महाभारत, श्री कृष्ण, विष्णु पुराण, शिव पुराण स्टोरी बुक: 10 -10 पुस्तकों वाली यह स्टोरीबुक्स कॉमिक्स आर्टिस्ट कृष्ण लाल वर्मा द्वारा सुन्दर चित्रों से चित्रित कथाएं हैं जो बच्चों और बड़ो लिए रामायण और महाभारत से अवगत होने के लिए सबसे सरल व रोचक माध्यम है. यह संभवत 1980 से पहले से प्रकाशित होती आ रही पुस्तकें हैं. इन्हें एक साथ हार्डबाउंड एडिशन या अलग अलग अंको में निकले एडिशन में आप खरीद कर संगृहीत कर सकते हैं. इसके पुराने सस्ते एम आर पी वाले व नए पर थोड़े महंगे एम् आर पी एडिशन उपलब्ध है. यह हिंदी व अंग्रेजी में उपलब्ध हैं.

10. आन कॉमिक्स 28 कॉमिक्स सेट: भारतीय सैनिको के असली घटित कहानियों पर आधारित ये कॉमिक्स आपको कपोल कल्पित कहानियों से अलग असली दुनिया के भारतीय सैनकों की शौर्यगाथा से अवगत कराएगी. इन कॉमिक्स में आतंकवाद के खात्में से लेकर असंभव सैनिक मिशनों कि असली कहानियाँ हैं जो कि तथ्यों को जांचकर लिखी व पेश कि गई हैं. इन कॉमिक्स को भी आप न सिर्फ अपने संग्रह में रख सकते हैं बल्कि ये बच्चों के लिए अनमोल उपहार हो सकते हैं. इसके फर्स्ट प्रिंट्स मिलना दुर्लभ है पर इन 28 कॉमिक्स में से बहुत से फर्स्ट प्रिंट्स हैं जो संग्रह कि शोभा बढ़ाते हैं. यह इंग्लिश व हिंदी में उपलब्ध हैं. अधिकांश कॉमिक्स की कीमत 40 रुपये है व कुछ कि 50 व 70 रुपये, दो चार कॉमिक्सों कि कीमत उनके बड़े साइज़ व रंग्युक्त व अधिक पृष्ठों के कारण 200 से 500 रुपये तक हैं. पर लगभग ये पूरा सेट 3000 रुपये मूल्य एम् आर पी का है. यद्यपि 40 रुपये वाली एक-एक कॉमिक्स कि रेयर वैल्यू 100 रुपये तक जाती देखी गई है, 500 रुपये वाले के तो कहने ही क्या. पर निश्चिंत रहें आपको यह सब एम आर पी मूल्य पर ही मिलेगा.

एक्स्ट्रा फीचर्ड कलेक्टीबल:

संदीप सांखला मैन्युअल इनक्वाश कॉमिक्स व चित्रकार द्वारा ओरिजिनल आर्टवर्क : आन कॉमिक्स में प्रकाशित संदीप सांखला कॉमिक्स के चित्रकार ने अपने द्वारा बनाई कॉमिक्स कि सीमित प्रतियों में अपने हाथो से मैन्युअली ब्रश- इनक्वाश करके उसे एकदम ही अद्वितीय रूप दिया है और इसे संग्रहनीय बना दिया है साथ ही उनके द्वारा बनाये कुछ सैनिको के चित्र भी संग्रह हेतु उपलब्ध हैं. गंभीर संग्रहकर्ताओं के लिए इन अद्वितीय प्रतियों को अपने संग्रह में शामिल करना अवश्य ही आकर्षक होगा क्यूंकि इससे उनका संग्रह अद्वितीय बन जायेगा.

है ना शानदार ! उपरोक्त करीब 100 से ज्यादा कॉमिक्स आप सीधे -सीधे एम आर पी पर ही नहीं बल्कि डिस्काउंट कीमत पर अपने कलेक्शन में शामिल कर सकते हैं, यह आपके संग्रह को शुरू करने का एक शानदार स्टार्टर पैक है जो न सिर्फ उचित मूल्य पर बनेगा बल्कि उसकी संग्रहनियता भी जानदार रहेगी. जैसा हमने कहा कि रेयर वैल्यू कि कोई थाह नहीं क्यूंकि बाजार में यह रेयर वैल्यू निर्धारित नहीं है पर अंदाजन उपरोक्त सभी कॉमिक्सों की कुल रेयर वैल्यू कीमत 50000 से ऊपर होगी पर ये सारी कॉमिक्स आपको कमोबेश 10000 से 15000 रुपये तक की कीमत पर प्राप्त हो सकती है। यानि कि आपके संग्रह में एक झटके में 100 से ज्यादा किताबे संगृहीत हो जाएँगी बिना किडनी बेचे.

उपरोक्त सभी कॉमिक्स व किताबें एमआरपी बुक शॉप (विजिट : एमआरपी बुक शॉप) पर भूतकाल में बिक्री पर उपलब्ध की जा चुकी हैं और कलेक्टर, सेलर्स, पाठक सभी ने इन्हें खरीद करके अपने कॉमिक्स कलेक्शन में चार चांद लगाए हैं। तो आइये बताते हैं कि क्या है एम आर पी बुक शॉप!

एम आर पी बुक शॉप लगभग २ महीने के वोर्किंग पीरियड में 4000 से ज्यादा कॉमिक्स बेच चुकी है, पिछले वर्ष अगस्त से एक्टिव रूप से सैकड़ों कॉमिक्स संग्रहकर्ताओं का पसंदीदा डेस्टिनेशन है. भारत के विभिन्न राज्यों के बड़े- बड़े कॉमिक्स व पुस्तक संग्रहकर्ताओं ने अपने कलेक्शन के लिए एम आर पी मूल्य पर बनाये जाने वाले कॉमिक्स पैक्स खरीद कर अपने संग्रह को बढ़ाया है. इन पैक्स कि खासियत है कि रेयर कॉमिक्स व अन्य आकर्षक कॉमिक्स का एक पैक बनाकर बिक्री के लिए उपलब्ध कराया जाता है जिससे कि खरीदने वाले को वे सभी कॉमिक्स एम आर पी मूल्य पर पड़ें और किसी एक कॉमिक्स के लिए अधिक मूल्य भी न देना पड़े. यानि कि बाजार में न आपको किडनी बेचनी पड़े और आपका कलेक्शन भी बनें. एमआरपी बुक शॉप की ताजा अपडेट के अनुसार अब भी अधिकांशत ये कॉमिक्स उपलब्ध हैं, यद्यपि कोरोना वायरस के कारण हुए पूरे भारतवर्ष में लॉकडाउन के चलते सिर्फ आर्डर बुक किये जा जायेंगे और किताबों कि डिलीवरी लॉकडाउन के समाप्त होने के बाद ही होगी. लॉकडाउन में उनके द्वारा अपनाये गए दो रूल्स है जिसमें एक में कुल मूल्य का 5 फ़ीसदी एडवांस पेमेंट करके बुकिंग करना है और दूसरे रूल में बिना कोई पैसा ट्रान्सफर किये सिर्फ बुकिंग करना शामिल है (कृपया ज्यादा विस्तृत जानकारी के लिए आप एम आर पी बुक शॉप से संपर्क करें). तो मौका रहते आप इन्हें खरीद कर अपना कलेक्शन बना सकते हैं। तो देर किस बात की इससे पहले की ये सभी शानदार कॉमिक्स व किताबें कोई और खरीदे और यह सोल्ड आउट हो जाएं तुरंत इसे अपने कलेक्शन की शोभा बनाइये।

आगे इसी सीरीज में हम पेश करेंगे मुख्यत मार्वल कॉमिक्स और डीसी कॉमिक्स व अन्य दुर्लभ कॉमिक्स के 200 कॉमिक्स का “कलेक्टर स्टार्टर पैक 2”  जो आपके कलेक्शन को दुगना कर देगा। आप ये अपडेट मिस ना कर दें इसके लिए सब्सक्राइब कीजिये कॉमिक्स बाइट फेसबुक पेज।

लॉकडाउन में व कोरोना वायरस से बचने के लिए कॉमिक्स प्रेमी ये विडियो जरुर देखें व दिए गए सुझावों का प्लान करें. एम आर पी बुक शॉप भी इन सुझावों पर अमल करने हेतु प्रतिबद्ध है.

जुड़िये एमआरपी बुक शॉप से आज ही और ज्वाइन कीजिये उनके विभिन्न सोशल टच पॉइंट्स –

यू ट्यूब लिंक : कॉमिक्स थ्योरी लाइव

एमआरपी बुक शॉप लिंक : एमआरपी फेसबुक पेज

एमआरपी ग्रुप: एमआरपी फेसबुक ग्रुप

वाट्सएप्प ग्रुप: अपना मोबाइल नंबर एमआरपी के फेसबुक पेज पर छोड़े(इनबॉक्स)

नोट : स्टॉक कि उपलब्धता व आर्डर करने के लिए कृपया एम आर पी बुक शॉप को संपर्क करें (फेसबुक पेज) !

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

One thought on “कलेक्टर स्टार्टर पैक : बनाएं दुर्लभ कॉमिक्स व किताबों का संग्रह बिना किडनी बेचे

Leave a Reply

error: Content is protected !!