रोर्स्चाच अका’ वाल्टर कोवैक्स

वॉचमैन फिल्म मैंने 2009 में ही देख ली थी लेकिन ग्राफिक नावेल पढने का मौका मुझे काफी बाद में मिला, वॉचमैन फिल्म मुझे काफी पसंद आई उस वक़्त और ग्राफ़िक नावेल को टाइम्स टॉप 100 में जगह दी गई है. कहानी का प्लाट इसकी जान है, कांसेप्ट कुछ कुछ वैसा ही जैसा “थानोस” का नजरिया था, पूरी कहानी नहीं बताऊंगा नहीं तो आपके मनोरंजन का फैक्टर कम हो जायेगा. डार्क थीम पर है, थोड़ी स्लो भी है लेकिन चाहे फिल्म हो या ग्राफ़िक नावेल ये पाठक या देखने वाले के साथ पूरा न्याय करती है.

साभार: डीसी कॉमिक्स और वार्नर ब्रदर्स एवं द नर्ड डेली

आज बात करेंगे “रोर्स्चाच अका’ वाल्टर कोवैक्स” की, ये किरदार मुझे देखते ही पसंद आ गया था, इसकी कार्यशैली आपको बैटमैन के याद दिला देगी, पहले तो वॉचमैन का यूनिवर्स अलग था पर अब डूम्सडे क्लॉक नामक इवेंट से इन्हें जोड़ दिया गया है. रोर्स्चाच का मतलब एक तरह की चिकित्सीय परीक्षा जिसमे मरीज़ का “मनोवैज्ञानिक परीक्षण किया जाता है, उसकी धारणाओं को रिकॉर्ड किया जाता है और फिर उसकी मनोवैज्ञानिक व्याख्या की जाती है एक जटिल एल्गोरिदम के द्वारा, ये समझिये की यह एक प्रकार का विश्लेषण है किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व की विशेषताएँ और भावनात्मक कार्यप्रणाली को समझने के लिए”. इसके खोज करने वाले साइंटिस्ट का नाम भी “हरमन रोर्स्चाच” था और वो इंकबोट की सहयता से कुछ खास तरह के पैटर्न बना कर मरीज़ों से सवाल पूछते थे, उनके जवाब के अनुसार उनके मनोवैज्ञानिक स्तर को समझने में मदद मिलती थी.

रोर्स्चाच के चेहरे पर में एक मास्क रहता है जो एक अलग प्रकार के सिल्क से बना है, वो एक दर्जी के यहाँ कार्यरत था, लेकिन जब उसके एक कस्टमर की हत्या हो जाती है तो वह उठ खड़ा होता है इस पाप की लंका को भस्म करने के लिए, वो उसी सिल्क के कपड़े का मास्क बनता है जिसमे कुछ खास पैटर्न बनते है ठीक वैसे ही जैसे उसके मनोवैज्ञानिक परीक्षा में. रोर्स्चाच अव्वल दर्जे के जासूस है, हाँथ से हाँथ वाली लड़ाई में पारंगत, गजब का कलाबाज़. अपराधी उससे खौफ खाते है क्योंकि उसके तरीके खतरनाक और क्रूर है. वो निर्दयी है और उसके सवाल जवाब करने का तरीका हड्डियों के कीर्तन करने से शुरू होता है. ये सारी खूबियाँ बैटमैन की भी है शायद इसीलिए मुझे रोर्स्चाच का किरदार इतना बढ़िया लगा.

रोर्स्चाच क्राइमबस्टर टीम का हिस्सा है, जहाँ पर उसके साथी है नाईट आउल, सिल्क स्पेक्ट्रे, मिस्टर मैनहैट्टन, कॉमेडियन और ओजीमैनडिस. लेकिन रोर्स्चाच के तरीकों को कोई खास पसंद नहीं करता, ऍफ़ बी ऑई को भी इसकी तलाश है, क्योंकि रोर्स्चाच को लगता है की कानून तोड़कर ही लोगों को बचाया जा सकता है. वो नकाब पहनता है और नकाब का काला और सफेद रंग उसकी भावना और नैतिकता के दृष्टिकोण के अनुरूप है। यह भी कि उसने अपना ये नाम “रोर्स्चाच” कैसे प्राप्त किया। लोगों के अनुसार ‘रोर्स्चाच’ एक खूंखार पागल कुत्ता है!

रोर्स्चाच के जनक है एलन मूरे और उन्हें सजीवता प्रदान की डेव गिब्बन्स ने, चित्रकार डेव के अनुसार अगर उन्हें कोई करैक्टर ड्रा करना हो तो वो ‘रोर्स्चाच’ को ही बनायेंगे क्योंकि इससे बनाना बहोत आसन है. रोर्स्चाच डीसी कॉमिक्स के मल्टीवर्स का हिस्सा है और उसके अनुसार उसके चेहरे पे कोई नकाब नहीं है और जो है वो उसके शरीर का अहम भाग है. दिन में वो न्यूयॉर्क में एक दफ्ती लेकर घूमता है जिसमे लिखा है “अंत निकट है”!!

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

Leave a Reply

error: Content is protected !!