राज कॉमिक्स/राजप्रेम कॉमिक्स – कॉपीराइट, ‘सर्वरण’ और “अघोरी” (Raj Comics / RajPrem Comics)

नमस्कार मित्रों, न्यूज़ बाइट्स में आज आप पाएंगे ‘राज कॉमिक्स/राजप्रेम कॉमिक्स’ की ओर से दो और बड़े अद्यतन (Raj Comics Updates). तो क्या है वो ख़बरें आईये एक नज़र इन ख़बरों पर –

कॉपीराइट

जब से राज कॉमिक्स के दो ग्रुप बने है, नाम में परिवर्तन देखने को मिला है तब से अटकलों का बाज़ार गर्म हो गया था. यहाँ के लोगों की एक खासियत यही है “चाहे अपना घर आग में जल रहा हो पर चर्चा फिर भी पडोसी के घर की ज्यादा होती है”. खैर बात भी बड़ी है, राज कॉमिक्स के लाखों करोड़ों फैन्स है तो सवाल तो जरुर दागें जाएंगे. इसलिए संजय जी ने स्वयं आकर ही सभी सवालों का अंत कर दिया. देखें –

Raj Comics Copyright

मुख्य बिंदु –

सभी प्रकाशाधीन और कॉपीराइटेड अधिकार संजय जी के पास सुरक्षित है

राजप्रेम कॉमिक्स का नाम जैसा की संजय जी पहले भी बता चुके है अपने माता पिता को सम्मान देने और दोनों का नाम समाहित करने के उद्देश्य से बनाया गया है.

संजय जी ने आगे ये भी कहा की सुझाव दें निर्णय नहीं जो बिलकुल सही बात है. यह उनका उधम है, व्यवसाय है. मैं मानता हूँ की पाठकों और प्रशंसकों से ही किसी भी कार्य की महत्ता होती है पर इसका मतलब यह नहीं की आप उन्हें ही व्यवसाय और उसके समीकरण समझाने लगें (कुछ ज्यादा जुनूनी प्रशंसक).

आपको पता है शायद भारत में श्री संजय गुप्ता जी से बड़ा कॉमिक्स का जुनूनी और कोई हो ही नहीं सकता. हिंदी कॉमिक्स के दम तोड़ते रीढ़ को सहारा देनें वाले बस वो एक मात्र इंसान है नहीं तो हिंदी कॉमिक्स में वर्ष 2000 के बाद हाल ही के 2-3 सालों में कुछ बदलाव आया जब फेनिल कॉमिक्स, याली ड्रीम, फिक्शन कॉमिक्स, बुल्सआई प्रेस और कॉमिक्स इंडिया जैसे प्रकाशकों ने वापस हिंदी कॉमिक्स के क्षेत्र में एक सकारात्मक कदम उठाया.

आप सभी मित्रों, पाठकों, प्रशंसकों, जुनूनियों से मेरा हाँथ जोड़कर निवेदन है की इस गरिमा को हंसी ठिठोली से ठेस ना पहुंचाए. जो भी सुझाव है, निवेदन है, मांग है उसे सम्मानपूर्वक संजय जी के समक्ष रखें.

टिंकल डाइजेस्ट अब हिंदी में भी – टिंकल हिंदी

सर्वरण

आखिरकार सर्वरण के पहले दर्शन हुए. ये शायद प्रूफ रीडिंग वाली प्रति है. संजय जी बातों से ऐसा लगा की इसे प्राप्त करने में उन्हें काफी कठनाई हुई है. उन्होंने सभी सदस्यों को बधाई दी और कहा की कॉमिक्स को हाँथ से पकड़ने का जो आनंद मिलता है उसका अनुभव बड़ा ही अनमोल है.

Sarvran - Raj Comics - Sarvnayak Series

इस पोस्ट के साथ उन्होंने एक एक तस्वीर भी डाली जिसमें सर्वरण कॉमिक्स और उसके कुछ पैनल को साफ़ साफ़ देखा जा सकता है.

Sarvran Comics - Sarvnayak Series - Raj Comics

इस तस्वीर की बात करूँ तो इन पैनल पर ‘अघोरी’ (राज कॉमिक्स का नया सुपरहीरो) और बोर्डलो (ड्रेकुला सीरीज – नागराज और सुपर कमांडो ध्रुव) के बीच जंग देखी जा सकती है. अघोरी काफी दिनों से कॉमिक्स में अपने आगमन का इंतज़ार कर रहा है और इससे बढ़िया प्रवेश क्या ही होगा!! क्या जबरदस्त संवाद लिखें है किरदार के लिए, वाह!

अघोरी - राज कॉमिक्स
अघोरी – राज कॉमिक्स

अघोरी की पहली कॉमिक्स एक ‘वेब कॉमिक’ थीं, लेकिन उसके बाद इसे छापा नहीं गया था. न्यूज़ बाइट के थ्रेड में आज इतना ही, कल फिर मिलते है अन्य खबरों के साथ, आभार – कॉमिक्स बाइट!!

Tinkle Special Digest Pack (Set of 10 Volumes) (Hindi) Paperback – Box set

Tinkle Special Digest Pack (Set of 10 Volumes) (Hindi) Paperback – Box set

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

2 thoughts on “राज कॉमिक्स/राजप्रेम कॉमिक्स – कॉपीराइट, ‘सर्वरण’ और “अघोरी” (Raj Comics / RajPrem Comics)

  • September 20, 2020 at 10:08 am
    Permalink

    चलिए जो भी हो ! संजय सर बस किसी तरह हम रीडर्स को कॉमिक्स अवेलेवल कराते रहें इससे ज्यादा और कुछ नहीं चाहिए !!

    Reply
    • September 20, 2020 at 6:57 pm
      Permalink

      जी सही कहा आपने, कॉमिक्स आते रहनी चाहिए.

      Reply

Leave a Reply

error: Content is protected !!