पायस जुलाई 2021 अंक (Payas July 2021 Issue)

नमस्कार मित्रों, पायस का इंतज़ार अब हर माह होता है। डिजिटल प्रारूप में ही सही लेकिन बाल साहित्य मैगज़ीन का खोता हुआ भविष्य अब धीमे-धीमे से थमता हुआ महसूस किया जा सकता है। जुलाई को विशेष बनाया है बारिश के मौसम ने और अनिल जी के संपदिकीय लेख को पढ़कर आपको यह एहसास जरुर होगा की क्यूँ वर्षा ऋतु का भारत में इतना महत्व हैं एवं वहीँ कुछ राज्यों में इनके कारण हर वर्ष प्राकृतिक आपदा की स्तिथि बनी रहती है, फलों के राजा आम का जिक्र आपको बरबस ही मुस्काने में मजबूर कर देता है तो पद्म सम्मान से सुशोभित श्री मिल्खा सिंह जी का कोरोना से निधन आपकी आँखों में नमी छोड़ जाता है।

Payas - July 2021
पायस बाल पत्रिकाजुलाई अंक

बारिश के मौसम में वैसे भी वातावरण काफी सुहाना हो जाता है, ऐसे में पायस की कहानियों के साथ पाठक चाय-पकौड़े का आनंद भी जरुर लें और बॉक्सिंग खेल की रोचक जानकरी के साथ, चित्रकथाओं, बाल-मंच और कविताओं को भी अपना स्नेह अवश्य दें। पाठकों से एक सवाल – क्या आप जानते हैं कैसे होती है बारिश? अगर हाँ तो बढ़िया है और अगर नहीं तो इस अंक को सभी बाल पाठकों को जरुर पढाएं।

कॉमिक्स, चंपक, चंदामामा, नागराज, चाचा चौधरी – यहाँ से खरीदें

Payas - July 2021 - Index
पायस बाल पत्रिकाजुलाई अंक

कोरोना ने भारत में बड़ी तबाही मचाई है, लगभग हर घर में कोई ना कोई इस महामारी से जूझा है और हाल ही में भारत के गौरव और ‘उड़न सिख’ के नाम से मशहूर श्री मिल्खा सिंह जी भी अपनी अर्धांगिनी के साथ इस संसार को अलविदा कह गए। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी भी उनके गौलोक गमन के कारण दुखी दिखे और अपनी संवेदना उनके परिवार के साथ प्रकट की। यह भारत के लिए एक अपूर्णीय क्षति है जिसकी भरपाई अब संभव नहीं। मैंने अपने पिताजी के मुंह से जब पहली बार मिल्खा जी का नाम सुना था, तभी से उनके बारे में और जानने की जिज्ञासा मेरे मन में तीव्र हो उठी थीं। तब स्कूल की लाइब्रेरी में मुझे उनके बारे में जानने का मौका मिला और उस दौर से मैं भी उनका प्रशसंक बन गया। उन्होंने देश के झंडे का मान ऊँचा किया और अपने कौशल से विश्व में भारत के नाम का डंका बजवाया, मिल्खा सिंह जी जैसी महान विभूति को कॉमिक्स बाइट की ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि।

Payas - Milkha Singh
पायस बाल पत्रिका – जुलाई अंक – मिल्खा सिंह

बाल साहित्य अगर पसंद हैं तो इसके लिए आप डिजिटल मैगज़ीन को पढ़ें और अगर पसंद आए तो ऐच्छिक शुल्क मात्र 20/- रुपये नीचे दिए गए विवरण पर साझा करें एवं और अधिक जानकारी या साहयता के लिए ईमेल या व्हाट्सअप पर संपर्क करें। इस प्रयास को सफल बानने में अपना योगदान जरुर दें, आभार – कॉमिक्स बाइट!!

पायस बाल पत्रिका – 7982014609 (संपर्क)

Payas - Thank You Note
पायस बाल पत्रिका – जुलाई अंक

Sampoorna Bal Sahitya (Vol. 1)

Sampoorna Bal Sahitya (Vol. 1)

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

Leave a Reply

error: Content is protected !!