स्पाइडर-मैन इंडिया: पहला अंक

गोथम एंटरटेनमेंट ग्रुप की स्थापना 1997 को हुई, सुरेश सीतारमण और शरद देवराजन इसके जनक माने जाते है. इन्होंने भारत के कॉमिक्स छेत्र में एक क्रांति लाई जब गोथम कॉमिक्स ने डी सी और मार्वल के एपिक कॉमिक्स आर्क्स को बहोत ही रीज़नेबल मूल्य पर यहाँ के पाठको को उपलब्ध कराया एवम् विदेशी सुपर हीरोज जैसे स्पाइडर-मैन, सुपरमैन, बैटमैन जैसे अनेक कॉमिक्स किरदारों को एक नया मंच भी प्रदान किया.

साभार: कॉमिक्स बाइट आर्काइव्स

गोथम कॉमिक्स में ही स्पाइडर मैन इंडिया का जन्म हुआ, और पीटर पार्कर बन गया पवित्र प्रभाकर. जैसा की शरद अपने कॉमिक्स इंट्रोडक्शन में कहते भी है की उन्हें एक सुपर हीरो बनाना था जिसकी मास अपील हो और साथ ही एक देशी फ्लेवर भी मिले. मुंबई में पले बढे पवित्र भी अपने जीवन में उनकी सामने आती हुई दिक्कतों का सामना करते है और सफलता पूर्वक उन्हें सुलझाते भी है, एक इंटरनेशनल सुपर हीरो जिसकी लोकल छवि भी हो ताकि पाठक उससे कनेक्ट कर सके. इस करैक्टर के सर्वाधिकार मार्वल के पास सुरक्षित है.

साभार: कॉमिक्स बाइट आर्काइव्स

पवित्र प्रभाकर भी लोगो को अपराधियों से बचाते है हालाँकि पवित्र को उनकी पावर्स किसी रेडियोएक्टिव मकड़ी के काटने के प्राप्त नहीं हुयी, पर स्टोरी के प्लाट और कहानी को पूरी तरीके से बदला नहीं गया क्योंकि यहाँ भी आपको अंकल बेन की जगह अंकल भीम मिलेंगे एवम् उसके उपर बहोत से ट्विस्ट भी दिए गए है जो काफी दिलचस्प है.

साभार: कॉमिक्स बाइट आर्काइव्स

भारत का स्पाइडर-मैन धोती पहनता है, माथे पर मकड़े के आकर का टीका लगता है जो की भगवन शंकर के त्रिशूल जैसा प्रतीत होता है, कान में कुंडल पहनता है और मुंबई में रहता है, यहाँ पर कोई ग्रीन गोब्लिन (स्पाइडर मैन विलेन) तो नहीं है पर उससे भी खतरनाक एक दानव खलनायक जिसका नाम “भाईजान ओबेरॉय” दिखाया गया है, बेहद खूंखार प्रवति का दर्शाया गया है.

साभार: कॉमिक्स बाइट आर्काइव्स

पटकथा लिखने में शरद जी और सुरेश जी के साथ दिया है श्री जीवन जे कँग ने और आपको ये भी बता दूँ की इस कॉमिक्स के इलस्ट्रेटर यानि चित्रकार भी वही है. कॉमिक्स के हर पन्नों में कलाकार द्वारा की गई मेहनत दिखती है जो ये भी बताती है की कितने विस्तृत तरीके से किरदार पर शोध किया गया है, बाकि कॉमिक्स पे रिव्यु फिर किसी और दिन करेंगे, तब तक के लिए विदा – कॉमिक्स बाइट!

ये जानकारी अगर आपको पसंद आई तो इसे अपने मित्रों, दोस्तों, ग्रुप्स, फेसबुक और अन्य सोशल टच पॉइंट्स पर ज्यदा से ज्यदा शेयर करे, हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे और कोई अन्य जानकारी आपके पास हो तो हमे कमेंट सेक्शन में मेंशन करिये, आभार.

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

One thought on “स्पाइडर-मैन इंडिया: पहला अंक

Leave a Reply

error: Content is protected !!