दुर्लभ खोज: कौन है नागराज?

नागराज की एक खास जगह है दिल में, थी और शायद हमेशा रहेगी। वाकई में एक दुर्लभ खोज ही तो है मानवता का रक्षक, अपराधियों का काल, बच्चों का दोस्त और भी पता नहीं कितने नाम है उसके, कई रूप भी लेकिन हरे शल्कों वाले इस योद्धा को आप कितना भी जान लें कम ही लगता है! कॉमिक्स प्रेमियों के हृदय में वास करता है “नागसम्राट नागराज” (Nagraj).

आर्टवर्क: श्री प्रताप मुल्लिक
एडिट्स: मैड क्लिक्स
साभार: राज कॉमिक्स

नागराज पर मैंने कुछ पंक्तियाँ लिखी है, आज आप सभी से साझा कर रहा हूँ –

मसीहा है या भगवान,
गोरखनाथ का शिष्य महान,
सर्प मानव बस नाम से,
पूर्ण मनुष्य कर्मकांड से,

शंकर जी का शिष्य अलबेला,
देव कालजयी के हाथों में खेला,
तक्षक-ललिता का पुत्र अनोखा,
कालदूतजयी वीर पुरोधा,

समूल नाश आतंकियों का,
विश्व कल्याण ही धर्म है,
इच्छाधारी नागमानव,
यही भूमि तेरा कर्म है
,

तेरा शरीर अधूरा,
पर प्रेम पूर्ण है,
प्रेयसी से पृथक,
पर ह्रदय संपूर्ण है,

नश्वर सा जीवन,
हैं पुण्य तेरे देव से,
नाग सम्राट नागराज,
हैं धन्य नाग श्रेष्ठ ये,
हैं धन्य नाग श्रेष्ठ ये।।

#हैशटैग_ओरिजनल #नागसम्राट

राज कॉमिक्स के पात्र “नागराज” आज करीब 4 दशकों से लगातार अपराधियों से लोहा ले रहा है, हमें सही गलत के चुनाव की शिक्षा दे रहा है, मैं ये नहीं कहूँगा कि काॅमिक्स आपका जीवन बदल देगी, लेकिन कहानी और चित्र को बेहतर ढंग से एक सूत्र में पिरोकर बनाया गया हो तो यकीन से कह सकता हूँ उसकी सीख कई सालों तक आपके जेहन में ताजा रहेंगी। मेरे बहोत से काॅमिक्स वाले मित्र है और जब मैं उनसे पहली बार मिला तो पता ही नहीं चला की कोई अनजान शख्स हैं। सब इतने मिलनसार और कुशलक्षेम पूछने वाले की क्या कहने। आज विश्व परिदृश्य में अनेक विपदाओं ने घर कर रखा है, ऐसे में असल जीवन के सुपर हीरोज भी उनसे भरपूर टक्कर लें रहे है, चाहे डाक्टर हो, पुलिस वाले या हमारे फौजी भाई, सभी हमारे सुपरहीरो ही तो है, ये गुण आपके अंदर भी विधमान है बस जरूरत है उसे पहचानने की, जब तक सरकार के दिशानिर्देशों का पालन आप कर रहें है आप खुद भी एक सुपरहीरो है!

आर्टवर्क: श्री प्रताप मुल्लिक
एडिट्स: मैड क्लिक्स
साभार: राज कॉमिक्स

काॅमिक्स मनोरंजन का बेहतरीन जरिया तो है ही साथ में खुद को एक बेहतर इंसान बनने की प्रक्रिया भी है, इसे हमें और प्रोत्साहन देना पड़ेगा ताकि बच्चों से लेकर बड़ो तक में इसका सकारात्मक असर हो और आने वाली पीढ़ियों तक भी ये सीख पहुँचे। एक 50/- की काॅमिक्स किसी को गिफ्ट करके देखिए, आप पाएंगे की अगली बार वो खुद आपके पास से उसकी और जानकारी ले कर जाएगा, इसमें कौतुहल अपने आप ही पैदा करने की शक्ति है, आँखों से देखा, पढ़ा और एक दृष्टी के साथ समझाने वाला इससे बेहतर माध्यम मुझे तो दिखाई नहीं देता, देखिये मैं टेक्नोलॉजी के विरुद्ध नहीं हूँ वो भी उतना ही जरुरी है जितना की ये बस बात है दोनों के सामंजस्य बिठाने की है. आज ऐसा बहोत कुछ आपके आसपास घट रहा है जिससे सचेत रहने की जरुरत है, किसी भी कार्य को करने से पहले उसे अच्छे से आंकने की कोशिश करनी चाहिए की इसके परिणाम क्या होंगे? समाज को या हमारे आस पास के लोगों को उससे कहीं चोट तो नहीं पहुंचेगी, हमारी सामाजिक जिम्मेदारियों का ज्ञान भी आप इनसे प्राप्त कर सकते है और आप भी “नागराज” बन सकते है! अब तो नहीं पूछेंगे ना “कौन है नागराज?”.

आर्टवर्क: श्री प्रताप मुल्लिक
एडिट्स: मैड क्लिक्स
साभार: राज कॉमिक्स

नागराज आज भी है और कल भी रहेगा, क्योंकि वह हमारे अंदर ही तो है बस उसे आपने पहचाना नहीं है अभी तक, उसे पहचान लीजिये और बन जाइये सुपरहीरो, आभार- काॅमिक्स बाइट!

Comics Byte

A passionate comics lover and an avid reader, I wanted to contribute as much as I can in this industry. Hence doing my little bit here. Cheers!

One thought on “दुर्लभ खोज: कौन है नागराज?

Leave a Reply

error: Content is protected !!